Wednesday, 26 April 2017

जन चर्चा के बारे में

        'जन चर्चा' ब्लॉग 'एक सोच जो अलग हो' का एक खास पहल है जिसके बदौलत समाज की परिदृश्यों का कई माध्यमों से समझने का प्रयास किया जाता है। बहसें तो बहुत होती है लेकिन साध्य पाने की कोशिश हमेशा से ही कई मामलों में धूमिल नजर आती है। ऐसे भी भारतीय समाज का विमर्श का स्तर अतीत की गौरवमयी 'पब्लिक डिस्कोर्स' से भटककर अभिजात्य वर्गीय कल्पित समूह ने ले लिया है जो मूल रूप से जाम से जाम टकराकर आपस में ही अपनी पीठ थपथपा लेते हैं।

        इस पहल का मूल मकसद समाज की उसी चर्चा,बहस और विश्लेषण को साकार करना है जिससे हम वास्तविक भारत को समझ सकें कि भारत क्या सोचता है और भारत की क्या मांग है? यह पहल कई दृष्टिकोणों मसलन 'लल्लन मियाँ का सुझाव','ब्लॉगर की अदालत','बातें गलियों से','रजिया की नजाकत' और FAQ आदि के बदौलत समस्याओं को समझने का प्रयास करता है।

रजिया की नजाकत
                                                                                                
बातें गलियों से                                                                                                          
पत्रकारिता का गिरता साख! - 1/1
नोटबंदी पर एक चित्रण!- 2/2
भक्त का दुरुपयोग और विमर्श का गिरता स्तर! - 3/3
मोदी आलोचना का सही चित्रण! - 4/4