Monday, 29 February 2016

बजट : अर्थ और भारत में प्रक्रिया

बजट शब्द की उत्पति -
यह अंग्रेजी शब्द बोगेट से बना हुआ है। बोगेट की व्युत्पत्ति फ्रांसीसी शब्द बौउगेट से हुयी है। इसका आशय चमड़े की थैली से है। 

साधारणतः अर्थ - 
अगर सरल शब्दों में कहा जाए तो यह भविष्य में किये जाने वाले खर्च का हिसाब है जिसे हम वर्तमान में बनाते हैं। इसमें सरकार की नीतियों का स्पष्ट संकेत मिलता है। 

बजट का भारत में प्रक्रिया - 
भारत में सितंबर के महीना में प्रक्रिया की शुरुआत हो जाती है और इसके साथ ही केंद्रीय मंत्रालय के बजट विभाग के पास केंद्रीय केंद्रीय मंत्रालयों,राज्यों एवं स्वायत निकायों के खर्चे और आमदनी की जानकारी भेजी जाती है। 

संबंधित विभाग के मंत्री बजट की प्रमुख नीतियों को तय करते हैं,जैसे कि कहाँ रियायत देनी है,कहाँ लगाम लगानी है। साथ में ब्याज दरों व मूल्य व्यवस्था पर भी दिशानिर्देश तय होते हैं। 

जनवरी में विभिन्न राजनीतिक दलों,उद्योगों व संगठनों के साथ संबंधित मंत्रालय बात करता है। इसके बाद संबंधित विभाग के मंत्री अपने अधिकारियों के साथ बजट की नीतियों पर चर्चा करते हैं। 

बजट बनाने की प्रक्रिया अति गोपनीय होती है। बजट भाषण पूरा होने के सात दिन पहले से बजट से जुड़ी सभी अधिकारी और कर्मचारियों का बाहरी दुनिया से कोई संपर्क नहीं रहता है। 

बजट पेश किये जाने से दो दिन पहले प्रेस सूचना कार्यालय के अधिकारी विज्ञप्तियां बनाते है। संसद में बजट पेश किये से 10 मिनट पहले कैबिनेट को इसका संक्षिप्त रूप दिखाया जाता है। 

बजट का इतिहास - फास्ट फैक्ट 

- सात अप्रैल,1860 - भारत में पहली बार बजट पेश किया गया(अंग्रेज सरकार द्वारा)

- जवाहर लाल नेहरू बजट पेश करने वाले पहले प्रधानमंत्री बने,उन्होंने 1958-59 में बजट पेश किया। 

- आजाद भारत का पहला बजट पहले वित्तमंत्री षणमुखम चेट्टी ने 26 नवंबर,1947 को पेश किया। 

- सर्वाधिक दस बार बजट पेश करने का रिकॉर्ड मोरारजी देसाई को है। 

- भारतीय गणतंत्र का पहला बजट 28 फरवरी,1950 को जॉन मथाई ने पेश किया। 

- 2001 तक बजट शाम पांच बजे पेश किया जाता था,लेकिन यशवंत सिन्हा ने 2001 का बजट पेश करने के दौरान बजट भाषण का नया सुबह 11 बजे निर्धारित किया। 

(इस आलेख में बजट का अर्थ,प्रक्रिया और इससे संबंधित उन तमाम बातों को बताया गया है जो बजट पेश होने का आधार है,वर्तमान पेश बजट से संबंधित सभी विश्लेषण आगे के अन्य आलेख में किया जाएगा।)